What is Algorithm in hindi | एल्गोरिथ्म क्या है

आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे की Algorithm क्या है अगर आप Algorithm के बारे में नहीं जानते हो तो टेंशन लेने की कोई बात नहीं है। हम इस पोस्ट के माध्यम से जानेंगे की Algorithm क्या है इसके लिए आपको हमारी इस पोस्ट को पूरा पढ़ना होगा तो चलिए शुरू करते हैं।

What is Algorithm in hindi
What is Algorithm in hindi | एल्गोरिथ्म क्या है

What is Algorithm | एल्गोरिथम क्या है ?

Algorithm Program लिखने से पहले बनाया जाता है जिससे एक बेहतर प्रोग्राम बन सके। Algorithm का इस्तेमाल किसी के Problem को सॉल्व करने के लिए किया जाता है। Algorithm किसी भी user को स्टेप बाई स्टेप सॉल्व करता है। उदाहरण के लिए मान लो कि आपको किसी को फोन करना है, फोन करना भी एक तरह का समस्या ही है, क्योंकि इसमें आपको कुछ करना है। 
अब फोन करने के लिए बहुत से काम करने होते हैं जैसे कि सबसे पहले आप चेक करेंगे कि आपका फोन ऑन है या नहीं। अगर फोन ऑन करके उस व्यक्ति के फोन नंबर डायल करना होता है जिससे आप बात करना चाहते हैं। फोन नंबर डायल करने के बाद टारगेट व्यक्ति का रिंग जाने का इंतजार करना होगा। यदि रिंग जाती है तब टारगेट व्यक्ति का फोन उठाने की इंतजार करेंगे निधि टारगेट व्यक्ति आपका फोन उठाता है तब आपकी बात हो पाएगी।
रोज तो इन स्टेप से आप समझ सकते हैं कि आपको फोन करने के लिए भी मामूली सी प्रॉब्लम सुलझाने के लिए एक सीक्वेंस का पालन करना होता है और साथ ही सभी steps को फॉलो भी करना होता है। आप इन स्टेप्स की कर्म को चेंज नहीं कर सकते हैं और ना ही इनमें से किसी स्टाफ को छोड़ सकते हैं।
यदि हम इनमें से किसी भी स्टाफ को इग्नोर करते हैं तो आप जिस व्यक्ति से बात करना चाहते हो उससे बात नहीं कर पाओगे। एनी प्रॉब्लम का सलूशन नहीं मिलेगा। इसलिए आपको किसी भी प्रॉब्लम को सलूशन प्राप्त करने के लिए आपको उस प्रॉब्लम के लिए डिफरेंट डिफरेंट स्टेप के रूप में डिफाइन करना होता है जो कि एक निश्चित क्रम होते हैं।
इस फॉलो किए जाने वाले स्टेप्स के समूह को ही Algorithm कहा जाता है।

What are the characteristics of the algorithm| एल्गोरिथ्म के लक्षण क्या है

एल्गोरिथ्म में कई सारी इसके आवश्यक विशेषताएं होती हैं जिनके बारे में हम यहां पर जानेंगे 
1. Finiteness :- एक एल्गोरिथ्म जितने कम समय में अपना पूरा काम करता हैैवह उतना ही अच्छा होता है इसमें हमेशााा गिनती के स्टेप्स होते हैं।
2. Precisely Defiened :- एल्गोरिथ्म का और स्टेप क्लीयरली डिफाइंड होता जिसे आसानी सेेे पढ़ा जा सकता है।
3. Input :- एक अच्छी एल्गोरिथ्म हमेशा अच्छा इनपुट लेता है।
4. Output :- एल्गोरिथ्म हमेशा इनपुट केेेे तरह ही एक अच्छा आउटपुट लेता है।
5. Effectiveness :- एल्गोरिथ्म हमेशा problem solvic होना चाहिए।
6. Unambiguous :- एल्गोरिथ्म सही और होना बहुत जरूरी है जिसमें स्टेप्स और लाइन का कुछ अर्थथ निकले।

Where does the algorithm use | एल्गोरिथ्म का यूज कहां होता है

एल्गोरिथ्म का यूज कहां पर होता है, जैसा कि आप लोग इतना तो जानते ही होंगे कि एल्गोरिथ्म का यूज़ आजकल हर जगह और किसी भी परेशानी का हल स्टेप बाय स्टेप इसके जरिए निकाला जा सकता है। और देखा जाए कि हमारे अनुसार इसका उपयोग इंडस्ट्रीज, कंपनी, प्रोग्रामिंग इत्यादि में किया जाता है। चली और विस्तार रूप से जानते हैं
1. Mathamatical problem को सॉल्व करने के लिए Algirithm का इस्तेमाल किया जाता है। जैसे कि 1 नंबर 0 से बड़ा है तो + अगर 0 से छोटा है तो – यूज होता है।
2. फेसबुक, सर्च इंजन, गूगल मैप भी एल्गोरिथ्म के अनुसार काम करता है।
3. कंप्यूटर साइंटिस्ट और सॉफ्टवेयर इंजीनियर भी इसका यूज करते हैं। क्योंकि इससे उन्हें काम करने में समय की बचत होती है और कम मेहनत में पूरा काम हो जाता है।
4. गलतियां ना हो इसके लिए फ्लो चार्ट बनाने से पहले एक सही एल्गोरिथ्म का प्रयोग किया जाता है।
5. कई सारे फील्ड जैसे कि स्पेस रिसर्च, रोबोटिक्स, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस मैं भी इसका उपयोग मुख्य रूप से किया जाता है।
6. कंप्यूटर में प्रोग्राम लिखने से पहले कंप्यूटर प्रोग्रामिंग में एल्गोरिथ्म का उपयोग किया जाता है। अगर आप कंप्यूटर साइंस, आईटी, बीसीए या एमसीए के छात्र हैं और आपको प्रोग्राम लिखना है जैसे चेक द नंबर इज नॉट अ टाइम ऐसे प्रोग्राम को आप बिना सोचे समझे लिखते हैं तो कहीं गलती दिखने को मिल सकती हैं।
7. सूडो कोड लिखने के लिए एल्गोरिथ्म की बहुत जरूरत होती है नहीं तो सुडो कोड फिर से लिखना पड़ सकता है।

What are the advantages of the algorithm | एल्गोरिथ्म के फायदे क्या है

1. एल्गोरिथ्म से किसी भी प्रॉब्लम को सॉल्व करने में आसानी होती है।
2. एक एक एल्गोरिथ्म निश्चित प्रक्रिया का उपयोग करता है।
3. एल्गोरिथ्म किसी भी लैंग्वेज पर निर्भर नहीं है इसीलिए प्रोग्रामिंग ज्ञान के बिना भी किसी के लिए समझना आसान होता है।
4. एल्गोरिथ्म में प्रत्येक चरण का अपना लॉजिकल सीक्वेंस होता है इसीलिए इसे दीपक करना आसान होता है।
5. एल्गोरिथ्म को फ्लो चार्ट में कन्वर्ट कर सकते हैं और उसके बाद इसे किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में बदला जा सकता है। एल्गोरिथ्म वास्तव में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जैसे संभव शक्तिशाली टेक्नोलॉजी का दिल है। एल्गोरिथ्म पहले से ही मशीन लर्निंग जैसे तकनीकों का आधार है।
इस प्रकार हर दिन नई नई तकनीकों के फीचर्स के साथ एल्गोरिथ्म का इस्तेमाल बढ़ाते जा रहे हैं। आज एल्गोरिथ्म वर्चुअल असिस्टेंट या ऑटोनॉमस टेक्नोलॉजी में भी इस्तेमाल किया जाता है।
दोस्तों हमें आपसे आशा है कि आप लोगों को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से संबंधित जानकारी समझ में आ गया होगा। हमारी यह कोशिश आपको कैसी लगी कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर करें ताकि उनको भी इसका नॉलेज मिल सके। इसी तरह की और जानकारी के लिए हमें सब्सक्राइब करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *