गर्मियों में गन्ने के रस के फायदे – Benefits Of Sugarcan Juice In Summer Time

 

इतनी भयंकर गर्मी में यदि कुछ ऐसा पेय पदार्थ मिल जाए जिससे शरीर को राहत मिले तो उसमें गन्ने का रस एक सर्वोत्तम उपाय है। गन्ने का रस पीने के बाद हर व्यक्ति अच्छा महसूस करता है। गन्ना घास की प्रजाति से जुड़ा हुआ एक पौधा है एवं इसकी लगभग 35 से 40 किस में पाई जाती हैं।

गन्ने में उपस्थित गुण एवं पोषाहार

गन्ने के रस के प्रत्येक 100 ग्राम में उपस्थित गुण एवं पोषण निम्नानुसार हैं

  • टोटल फेट  0 ग्राम 
  • शेड्यूल रेट 150 ग्राम 
  • कोलेस्ट्रोल 0 mg
  • सोडियम 58 mg
  • पोटेशियम 63mg 
  • टोटल कार्बोहाइड्रेट 73 ग्राम 
  • डाइटरी फाइबर 0 ग्राम 
  • शुगर 70 ग्राम 
  • प्रोटीन 0
  •  विटामिन सी 0% 
  • कोबालामिन 0% 
  • मैग्नीशियम 2% 
  • कैलोरी की संख्या 113 
  • वसा 3 ग्राम




गन्ने के रस में उपस्थित हमारे स्वास्थ्य के लिए गुण निम्नानुसार हैं

यह हमें तुरंत ऊर्जा प्रदान करता है

गर्मियों के मौसम में यदि कोई गन्ने का रस पीता है तो उसे तुरंत अपने शरीर में ऊर्जा महसूस होती है यह इसलिए होता है क्योंकि गन्ने के रस की यह खासियत है कि वह हमें तुरंत ही उर्जा प्रदान कर देता है इसीलिए आपने देखा होगा कि गर्मी के मौसम में गन्ने वाले के पास लंबी-लंबी कतारें लगी हुई होती है यह इसी कारण होता है यह केवल इसके स्वाद के लिए नहीं अपितु इसमें पाए जाने वाले गुण  जो कि हमें तुरंत ऊर्जा प्रदान करता है इसलिए होता है क्योंकि गर्मी के मौसम में हमारे लिए बहुत ही आवश्यक होती है।




यह आपके लीवर को सही रखता है

हमारे लीवर से जुड़े हुए रोग जैसे पीलिया या जॉन्डिस इसके लिए गन्ने का रस एक बहुत ही सर्वोत्तम उपाय है कई अध्ययनों और शोधों में यह पता चला है कि गन्ने के रस की प्रकृति क्षारीय होती है जो शरीर में इलेक्ट्रॉन को संतुलित करने में मदद करता है जिससे जॉन्डिस का असर कम होने लगता है।

यह हमारी कैंसर में मदद करता है

गन्ने के रस में बड़ी प्रचुर मात्रा में मैग्नीशियम, कैल्शियम, पोटेशियम, मैग्नीज, आयरन इत्यादि लवण पाए जाते हैं जो इसकी प्रवृत्ति को क्षारीय बनाते हैं । फ्लावनोईड की उपस्थिति से ब्रेस्ट कैंसर और प्रकोष्ठों कैंसर से लड़ने में मदद मिलती है।

गन्ने का रस पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है

हमारे पाचन तंत्र से जुड़ी सभी समस्याओं के लिए गन्ने का रस बहुत ही फायदेमंद होता है क्योंकि गन्ने के रस में खनिज लवण जैसे पोटेशियम इत्यादि पाए जाते हैं जो पेट में स्थित अम्लीय प्रकृति को संतुलित रखते हैं तथा हमारे पाचन रस के स्राव  में सहायता भी करते हैं एवं हमारे पेट में होने वाले संक्रमण से भी यह हमें सुरक्षित रखता है।

मधुमेह से पीड़ित लोगों के लिए भी है लाभदायक

मधुमेह से पीड़ित रोगियों के लिए यह एक सरल सा उपाय है क्योंकि गन्ने के रस में प्राकृतिक शक्कर मौजूद होती है जो मधुमेह को बढ़ावा नहीं देती है यदि इसका संतुलित रूप में उपयोग किया जाए तो। संतुलित रूप में उपयोग करने से मधुमेह के रोगियों को लाभ पहुंचता है क्योंकि गन्ने के रस में उपस्थित प्राकृतिक शुगर का ग्लाय्केमिक इंडेक्स कम होता है यह हमारे रक्त में शुगर स्तर को अचानक नहीं बढ़ने देता।




गुर्दों के लिए भी है लाभदायक

गन्ने के रस में किसी भी प्रकार का सिचुएटेड फेट संतृप्त वसा उपस्थित नहीं होती है एवं इसमें कोलेस्ट्रॉल एवं सोडियम की मात्रा भी कम पाई जाती है जिससे यह हमारी गुर्दो को स्वस्थ बनाए रखने में हमारी सहायता करता है।

गन्ने का रस करता है हमारी हड्डियों को भी मजबूत

भारत वर्ष में प्रारंभ से ही कृषि प्रधानता रही है। गांव में रहने वाले प्रत्येक बच्चे ने गन्ने का स्वाद अवश्य लिया है एवं यह उनके पसंदीदा पदार्थों में से एक है । यह न केवल स्वाद में ही अच्छे होते हैं अपितु हमारी हड्डियों को भी कैल्शियम प्रदान करके कंकाल तंत्र को काफी मजबूत बनाते हैं जिससे हम दैनिक जीवन की चुनौतियों को आसानी से पूरा कर सकते हैं।

गन्ने का रस हमारे मुंह से निकलने वाली दुर्गंध को कम करता है

मुंह में भोजन का सही पाचन ना होने की वजह से वह कई जगह चिपका रहता है जिसके कारण से आती है दुर्गन्ध। ऐसी परिस्थिति में गन्ने का रस एक बहुत ही रामबाण तरीका है क्योंकि गन्ने के रस में कैल्शियम और फास्फोरस जैसे खनिज पाए जाते हैं जो हमारे दांतो को भी सुरक्षित रखते हैं एवं दांतों को सड़ने से बचाते हैं इसमें उपस्थित पोषक तत्वों जैसे कैल्शियम और फास्फोरस की प्रचुरता के कारण मुह  आने वाली दुर्गंध को भी खत्म करता है।




गन्ने एवं उसके रस से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न एवं उसके उत्तर निम्ननुसार हैं-

Q1. गन्ने के रस की तासीर क्या होती है ?

Ans. इस की तासीर ठंडी होती है जो गर्मियों में इसे पीने से बॉडी ठंडी रहती है इसके अलावा इसमें फाइबर की भी भरपूर मात्रा होती है।

Q2. गन्ने का जूस पीने से क्या फायदे होते हैं?

Ans. गन्ने का रस पाचन तंत्र डाइजेस्टिव सिस्टम को स्वस्थ रखने में मदद करता है गन्ने का रस पाचन तंत्र की समस्या से परेशान लोगों के लिए बहुत फायदेमंद है इस पर मौजूद पोटैशियम पेट के पीएच स्तर को संतुलित करता है और पाचन तंत्र की रासो के स्राव में सहायता करता है यह पेट के संक्रमण को रोकने में भी मददगार है।

Q3. गन्ने का जूस कब नहीं पीना चाहिए?

Ans. सर्दी जुखाम होने पर आपको गन्ने का जूस नहीं पीना चाहिए ऐसा इसलिए क्योंकि गन्ने के जूस की तासीर ठंडी होती है इससे सर्दी जुकाम और खांसी की समस्या बढ़ सकती है अगर आपका वजन बहुत अधिक है तो इस स्थिति में अधिक गन्ने का जूस पीने से बचे रहे, गन्ने का जूस पीने से शरीर में कैलोरी की मात्रा बढ़ सकती है और इससे आपका वजन बढ़ सकता है।

Q4. क्या गन्ने का जूस रोज पीना अच्छा है?

Ans. रोजाना गन्ने का रस पीने से कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं नेचुरल लॉ कोलेस्ट्रोल लो सोडियम पूर्ण होने के नाते बिना सैचुरेटेड पैक के गन्ने का जूस किडनी को टॉप शेप में रखने में मदद करता है कैल्शियम मैग्नीशियम पोटेशियम आयरन मैग्नीज की उच्च सांद्रता गन्ने के रस को प्रकृति में क्षारीय बनाती है।

Q5. क्या गन्ने का रस लिवर को साफ करता है? 

Ans. अपने जिगर (लिवर ) को साफ करने के सबसे स्वादिष्ट और पावा प्रभावी तरीकों में से एक है एक गिलास प्राकृतिक रूप से मीठा और स्वस्थ गन्ने का रस पीना , गन्ने में विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो लीवर और पित्त विषहरण एंजाइम के विकास में मदद करते हैं और लिवर की सफाई प्रक्रिया को बढ़ावा देते हैं।

Q6. सुबह खाली पेट गन्ने का रस पीने से क्या होता है?

Ans. गन्ने के जूस में ग्लूकोज की मात्रा होती है जो आपकी बॉडी को एनर्जी प्रदान करता है इसीलिए अगर आप इसे खाली पेट पीते हैं तो आपकी बॉडी को तुरंत एनर्जी मिलती है इसलिए इसे पीने से आप पूरे दिन तरोताजा महसूस कर सकते हैं।

Q7. क्या गन्ने के रस से वजन बढ़ता है ?

Ans. अगर आप गन्ने का जूस का सेवन ज्यादा कर रहे हैं तो ऐसे में आपके वजन को बढ़ा भी सकता है , ऐसा इसलिए क्योंकि गन्ने के जूस में कैलोरी की मात्रा अधिक होती है जिसकी वजह से शरीर में फैट बढ़ने लगता है वही अगर आप इसका संतुलित मात्रा में सेवन करते हैं तो आपको वजन कम करने में भी इससे फायदा मिल सकता है।

Q8. गन्ने के रस का कोई साइड इफेक्ट है क्या?

Ans. गन्ने के अत्यधिक सेवन से अनिद्रा पेट खराब चक्कर आना सिर दर्द और वजन कम होने की समस्या हो सकती है क्योंकि इसमें पोलिकोजेनॉल मौजूद होता है यह रसायन रक्त को पतला भी कर सकता है और रक्त प्रभाव में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को प्रभावित कर सकता है।

Q9. एक गिलास गन्ने के रस में कितनी कैलोरी होती है?

Ans. यह कई पोषक तत्व प्रदान करता है गन्ने का रस चीनी और का रूप में उच्च रहता है एक कप (लगभग 240ml) में कुल 183 कैलोरी उपस्थित होती है।

Q10. गन्ने का रस कितनी बार पीना चाहिए?

Ans. आप 1 दिन में दो से तीन गिलास गन्ने का जूस पी सकते हैं अच्छा होगा अगर बिना बर्फ के गन्ने का जूस पिया जाए तो।

Q11. गन्ने के रस को कब तक दिया जा सकता है?

Ans. कोशिश करें कि गन्ने का रस ताजा ही पिए अगर गन्ने के रस को फ्रिज में नहीं रखा गया है तो यह आधा या 1 घंटे बाद खराब होने लगता है।

Q12. क्या गन्ने का रस रोज पिया जा सकता है ?

Ans. जी हां प्रत्येक दिन गन्ने के जूस का सेवन रोज किया जा सकता है ध्यान रखें कि इसे नियमित मात्रा में ही पिए साथ ही यह उन लोगों के लिए लागू है जो पूरी तरह स्वस्थ है वही अगर किसी को स्वास्थ्य संबंधी कोई समस्या है तो वह डॉक्टर के सलाह लेने के बाद ही करने के रस को अपनी डाइट में शामिल करें।

महत्वपूर्ण लिंक 

Apply Form Link

Click Here To Apply

Download Notification

Click Here To Download

Official Website

Click Here To Visit

Join Our Telegram Group

Click Here To Join

Tags : 

गन्ने का रस लाभ
गन्ने का रस पीने के फायदे और नुकसान
गन्ने का रस पीने के नुकसान
गन्ने का रस पीने का सही समय
गन्ने का रस निकालने की मशीन
गन्ने का रस के फायदे
गन्ने का रस और चूना
गन्ने का रस पीने का फायदा
गन्ने का रस मशीन की कीमत
गन्ने का रस तुलसी
खाली पेट गन्ने का रस पीने के फायदे
गन्ने का रस पीने के नुकसान
पुरुषों के लिए गन्ने के रस के फायदे
गन्ने का रस ठंडा होता है या गरम
गन्ने का रस पीने के फायदे और नुकसान
फैटी लिवर में गन्ने का रस
गन्ने का रस कब पीना चाहिए
पीलिया में गन्ने का जूस
पुरुषों के लिए गन्ने के रस के फायदे
गन्ने के जूस के नुकसान
गन्ने का रस ठंडा होता है या गरम
ganne ka ras in english
ganne ka ras near me
गन्ने का रस कब पीना चाहिए
खाली पेट गन्ने का रस पीने के फायदे
ganne ka ras peene ke fayde


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *